इन छात्रों के माँ बाप क्या ज़िंदा हैं? -रविश कुमार

इन छात्रों के माँ बाप क्या ज़िंदा हैं? -रविश कुमार

सिवान के अधिक्तर कॉलेज जे पी यूनिवर्सिटी से मान्यता प्राप्त हैं। यानी कि यूनिवर्सिटी के कारण कॉलेज में पढ़ रहे छात्रों को मुसिबत उठानी पड़ती है।
बिहार के छपरा स्तिथ जे पी यूनिवर्सिटी में परिक्षा व्यवस्था सालों से लचर हालत में है। जहां फॉर्म भरने में देरी होती है, वहीं रिजल्ट आने में सालों लग जाते हैं।

छात्रों की मानें तो उनके कई साल फॉर्म भरने और खराब रिजल्ट को री-चेकिंग करवाने में गुज़र गए हैं। यूनिवर्सिटी का हाल ये है कि अब आदतन लोगों को सब कुछ नॉर्मल सा लगने लगा है।

NDTV के पत्रकार रविश कुमार नें अपने इस फेसबुक पोस्ट के ज़रिए सिवान, छपरा और गोपालगंज के छात्रों की बात रखी है।
रविश लिखते हैं कि

loading...

क्या कोई बिहार में है जो छपरा के जे पी यूनिवर्सिटी के छात्रों को बचा सकता है? कई बार मेसेज आता है कि बीए के 2014-17 बैच में एडमिशन लिया था। 2018 तक सिर्फ प्रथम वर्ष की परीक्षा हुई है। ये तो हद है। कोई छपरा का सांसद है ? कोई विधायक है? इन छात्रों के माँ बाप क्या ज़िंदा हैं? चार साल में बीए के एक साल का इम्तहान ? इन छात्रों को किस बात की सज़ा दी जा रही है? क्या कोई इस फटीचर यूनिवर्सिटी का छात्र यहाँ कमेंट कर बताएगा कि बात किस हद तक सही है ।

ज्ञात हो कि NDTV के सीनियर पत्रकार रविश कुमार बिहार के कई कॉलेज और यूनिवर्सिटी के लचर व्यवस्थाओं पे प्रोग्राम कर चुके हैं। असर भी हुआ है।

ये भी पढ़ें :

  1. फेल साबित हुआ मानव श्रृंखला बनाना
Please follow and like us:
1

Related posts

2 Thoughts to “इन छात्रों के माँ बाप क्या ज़िंदा हैं? -रविश कुमार”

  1. […] इन छात्रों के माँ बाप क्या ज़िंदा हैं? -र… […]

Leave a Comment